akbar birbal story in hindi | akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | गधे की दाढ़ी


akbar birbal story in hindi or akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां हम सब बचपन से सुनते आ रहे है। akbar birbal story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां बहोत मशहूर है।  बीरबल अपने चतुर बुद्धि के कारन प्रसित्द्ध थे। बीरबल हर काम को बड़ी चतुराई के साथ पूरा करते थे। दोस्तों हिंदी Story Line आपके लिए लेकर आये है ऐसे ही मजेदार अकबर बीरबल की हिंदी कहानिया akbar birbal story in hindi। यह हिंदी कहानी को भी पढ़े। 

गधे की दाढ़ी

akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
एक दिन हसन एक सरदार की दाढ़ी बना रहा था दाढ़ी करते हुए सामने बैठे हुए की प्रशंसा करते हुए अपने मतलब को निकालते रहना यह हसन का स्वभाव था।  बिल्कुल इसी उद्देश्य से हंसने सरदार से कहा इस बार ऐसी दाढ़ी बनाता हूं कि खुद शेर खान का भी मिजाज उतर जाएगा। और अब खुद की ही तारीफ करता रह गया  
उसी समय एक लकड़ी वाला द्वार के सामने आकर रुक गया और चिल्लाने लगा लकड़ी ले लो लकड़ी जलाने के लिए लकड़ी  बाकी सब सीधी एक लकड़ी टेढ़ी। 
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
और इसी जोर-शोर की आवाज में हसन से सरदार की आधी मूंछ चली गई  सरदार  जोर से  चिल्लाने लगा और बोला क्या  यही गुण है क्या तुम्हारे हाथों मेंहसन ने झूठे हंसी लेकरक हा ऐसा हर बार थोड़ी होता हैगंगाराम लकड़ीवाला पहाड़ी बस्ती वाला वह आया है। लकड़िया बेचने  के लिए और उसके सिया चीप से आवाज सुनकर मेरा हाथ जरा सा फिसल गया अब रुके जरा में उसे अभी देख कर आता हूं
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
लेकिन सरदार ने कहा ऐसा करने से मेरी कटी हुई  मूंछ थोड़ी वापस जाएगीअब यह बच्ची हुई भी काट दे सरदार के बचे हुए मूंछ काटकर हसन लकड़ी  वाले गंगाराम के पास निपटने के लिए चला गया और बोला क्यों भाई गंगाराम इस गधे पर रखी हुई लकड़ी के कितने पैसे लोगे? गंगाराम ने कहा क्या खान साहब मैं आपसे  क्या मूल करूंगा? आप खुद ही देख कर लीजिए और दे दीजिए जो आप चाहते हो।  हसन ने कहा तुमने कोई कीमत होते की होगी वही बता दो और साफ-साफ जल्दी जल्दी बोलो  
गंगाराम लकड़ी वाले ने कहा ऐसी बात है तो मैं हर बार लकड़ियों केमोहरे लेता हूं हसन ने कहा यह लो 5 मुहावरे और उस गधे पर रखी सारे लकड़िया  जाकर उस कोने में रखो गंगाराम ने पूछा खान साहब जलाने की लकड़ी या मैं  गद्दे की लकड़ी या नहीं आती है  
 हंसना ने कहा मैंने तो तुम्हारी  गधे पर रखी हुई सारी लकड़ी के बारे में पूछा था और उसका सही दाम भी दे दिया है गंगाराम ने हमारे धंधे में जलाने वाले लकड़ियों के साथ गद्दे वाली लकड़ी नहीं देते हसन ने कहा मैं कुछ नहीं जानता मैंने तो तुम्हें कहा था कि गधे पर रखी सारे लकड़िया मुझे चाहिए अब वह तुम्हारी  गद्दी लकड़ी की है इसमें मैं क्या कर सकता हूं मुझे तो गधे पर लिखी हुई  सारी लकड़िया चाहिए।
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
गंगाराम ने कहा लेकिन खान साहब  मेरा और मेरे बच्चे का तो विचार कीजिए मेरे बच्चों का पेट उसी से तो बढ़ता है सरकार  दया कीजिए मेरा गड्ढा चला गया तो मैं क्या करूंगा? हंसने का गद्दी गई तो तुम अपने सर पर लकड़ी लेकर चलते रहना गंगाराम ने कहा ऐसा मत कीजिए मालिक हमारे पर भूखे रहने की बारी जाएगी
हसन के सामने आपने एक भी नहीं चलेगी ऐसा सोचकर गंगाराम ने लकड़ी के बक्से के साथ सारे लकड़ी या कोने में डाल दें और वह हसन को मन ही मन श्राप देता हुआ घर चला गया   गंगाराम बहुत बेचैन था ललाट पर छुरिया बनाते हुए और हाथ   एक के ऊपर एक रखें हुए इधर-उधर चक्कर काटते हुए वह अपने आप से कुछ बड़बड़ा रहा था
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
गलती मेरी ही है उसकी बात मुझे पहले से ही ठीक से सुन लेनी चाहिए थी लेकिन हसन ने भी मुझ पर आने किया है धंधे में कभी ऐसा होता है क्या?
 चक्कर काटते और बढ़ बढ़ाते हुए गंगाराम को देखकर  उसकी पत्नी ने कहा.... क्या हुआ है तुम्हें और अपने आप से क्या बड़बड़ा रहे हो लकड़िया तो सारी बिक गई है ना तो फिर क्यों बड़बड़ा रहे हो? गंगाराम ने कहा सिर्फ लकड़िया ही नहीं  गधे के पीठ पर रखी हुई गद्दी की लकड़ी लकड़ी बेच दी गंगाराम ने सारे बाद अपनी पत्नी को बता दी तब उसने परिजनों कर कहा हमारे भगवान है तो घोर अन्याय तुम बादशाह के दरबार में जाकर फरियाद करो
गंगाराम ने कहा मैं कैसे फरियाद  करो  वह हसन बादशाहो का  खानदानी  नाई है अकबर बादशाह हमारी तरफ से निर्णय देभी दे  लेकिन बाद में उस  नाई ने  अपने जीना हराम कर  दीया तो
गंगाराम के पत्नी ने कहा अगर ऐसा ही है तो तुम बीरबल से मिलो वही है जो सब के साथ न्याय पूर्ण व्यवहार करते हैं मैंने ऐसा सुना है
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
गंगाराम तुरंत ही बीरबल से मिला और उन्हें सारी हकीकत समझाई बीरबल ने कहा ऐसा हुआ क्या गंगाराम तुम चिंता मत करो अब सिर्फ मैं जैसा बताता हूं सिर्फ वैसा ही करो
 बीरबल की सारी बातें सुनकर गंगाराम अगले दिन जब हसन और सरदार की दाढ़ी बना रहा था तभी गर्म उसके घर के सामने चला गया और उसने जोर से आवाज लगाई खान साहब और ऐसा कहते हैं हसन के हाथों उस सरदार की मूंछ  कट गई  
सरदार बहुत गुस्सा हो गया और उसने  हसन के ऊपर चिल्लाते हुए कहा मैं फिर दोबारा यार नहीं आऊंगा
गंगाराम जोर जोर से आवाज लगा रहा था हसन खान साहब खान साहब हसन ने कहा गंगाराम तुम क्यों आए हो क्यों तकलीफ देने आए हो मुझेहसन ने कहा पिछली बार मैंने तुम्हारे सारे लकड़िया खरीद ली थी अबकी बार क्यों आए हो यहांगंगाराम ने कहा पिछली बार जो कुछ भी हुआ उसमें मेरी ही गलती थी अब जो कुछ भी हुआ उसे भूल जाओ   
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
गंगाराम ने कहा मेरा एक मित्र है उस मित्र के मुझ पर कहीं उपकार है साहब और उसी के घर में और मेरी घरवाली जी रहे हैं हंस ने कहा मुद्दे की बात करो जल्दी क्या कहना चाहते हो
 गंगाराम ने कहा आप उस मित्र के दाढ़ी बनाए ऐसी मेरी बहुत इच्छा है   उसने कहा लकड़ी बेचने वाला तुम दो कौड़ी का आदमी हो और  मैं बादशाह का खानदानी  नाई हूं तुम्हारे मित्र की दाढ़ी में क्यों बनाऊं चलो यहां से जाओ।
 गंगाराम ने कहा मेरे मित्र की बात ही कुछ ऐसी है जो उसके संपर्क में आता है वह अमीर बन जाता है। अब मेरी ही बात ले लो मुझे पहले खाने को भी नहीं मिलता था लेकिन जब से मैं उसके संपर्क में गया हूं तब से मुझे खाने की कोई भी कमी नहीं रहती और मेरे हालात पूरी तरह से बदल गए अब तो मैं अपने परिवार के साथ खा पीकर बहुत मजे करता हूं और आपने उसकी दाढ़ी बनाई तो क्या पता आपका भी नसीब खुल जाए और क्या बता आप बादशाह के दरबारी बन जाए हसन मन ही मन में खुश हो गया और बोला ठीक है ठीक है मैं चलता हूं लेकिन 20 मुहर से एक भी कम मुहर में नहीं  लूंगा
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
गंगाराम ने उसी वक्त हसन को विश मोहरे दे दिए   हंसना ही खुश हो गया पैसे देने के बाद गंगाराम आसन को अपने घर लेकर आया दाढ़ी बनाने की सारी तैयारी करने के बाद हसन बोला गंगाराम चलो अपने दोस्त को बुला लो गंगाराम ने कहा हो तो अपने सामने ही खड़ा है हो जाओ शुरू। जैसे ही आश्चर्य सामने देखा तो वहां गंगाराम का  गधा खड़ा हुआ था  
हसन पूछा तुम्हारे मित्र कहा हैगंगा यही तो है यह बहुत होशियार है बिल्कुल आप जैसा ही है  और यही मेरा बहुत प्यारा मित्र है   गंगाराम के ऐसा कहते ही उसने मना कर दिया लेकिन गंगाराम ने कहा अब ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि थोड़ी देर पहले ही आपने इसके पूरे पैसे ले लिया है लेकिन उसने कहा मुझे क्या पता था कि तुम गधे की बात कर रहे हो?
दोनों में बहुत बहस हो गई हसन ने कहा मैं बादशाह का खानदानी  नाई हूं और तो मेरा अपमान कर रहे हो  
ऐसा बोलते हुए हसन गंगाराम को अकबर बादशाह के दरबार में ले गया और वह बोला बादशाह सलामत मेरी इस लकड़ी बेचने वाले गंगाराम के खिलाफ एक फरियाद है गंगाराम ने कहा जहांपनाह इनके खिलाफ मेरी भी एक फरियाद है  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
मामला दावपेच वाला होगा यह जानकर अकबर बादशाह ने कहा बीरबल क्या कहना चाहते हैं वह सुनो। बीरबल ने पूछा  तुम्हारी क्या  फरियाद है गंगारामगंगाराम ने सारा किस्सा दरबार में सुना दिया तब  हसन ने पूछा बीरबल जी अब आप ही बताइए क्या गधा किसी का दोस्त हो सकता है क्या? बीरबल ने कहा क्यों नहीं हो सकता है इस दुनिया में जो एक दूसरे की मदद करते हैं वह एक दूसरे के मित्र ही होते हैं फिर वह चाहे गधा हो पक्षी हो या इंसान  
हसन ने कहा लेकिन आप अपना दोस्त गधा है यह तो गंगाराम ने मुझे बताया ही नहीं था किस अपना दोस्त बना लिया जाए यह हरेक का अपना अपना नजरिया है हम उसके बारे में कुछ कह नहीं सकते। बीरबल ने कहा अगर गधे पर रखा हुआ लकड़ी का गद्दा लकड़ी में शामिल हो सकता है तो गधा भी किसी का दोस्त हो सकता है  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
बीरबल की बात सुनकर  बीरबलऔर गंगाराम की चाल हसन के समझ में गई  और हसन ने कहा मुझसे गलती हो गई मुझे माफ कर दीजिए मैंने गंगाराम पर अन्याय किया है मैं उसके लकड़ी की  गद्दी वापस लौटाने के लिए तैयार हूं गड्डी तो तुम्हें वापस लौटानी हीं होगी लेकिन  गधे की  दाढ़ी करने के बाद


हिंदी कहानिया पढनेकेलिए यहाँ Click करे 


अकबर बीरबल हिंदी कहानिया- akbar birbal story in hindi

  1. ५ बेहतरीन अकबर बीरबल हिंदी कहानिया। - akbar birbal story in hindi
  2. पति को सबक | तानसेन की शर्त - akbar birbal story in hindi
  3.  अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | बीरबल को दंड | नन्हा साक्षीदार akbar birbal story in hindi
  4. अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | अकबर बादशाह की बीमारी | एक दांत का सपना akbar birbal story in hindi
  5. अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | छड़ी लगे छम छम | काझी की हुई फजीती akbar birbal story in hindi
  6. अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | हसन न्हाई akbar birbal story in hindi

तेनाली रमन की चतुराई 



No comments:

Powered by Blogger.