akbar birbal story in hindi | akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | हसन न्हाई की चालबाजी



akbar birbal story in hindi or akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां हम सब बचपन से सुनते आ रहे है। akbar birbal story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां बहोत मशहूर है।  बीरबल अपने चतुर बुद्धि के कारन प्रसित्द्ध थे। बीरबल हर काम को बड़ी चतुराई के साथ पूरा करते थे। दोस्तों हिंदी Story Line आपके लिए लेकर आये है ऐसे ही मजेदार अकबर बीरबल की हिंदी कहानिया akbar birbal story in hindi। यह हिंदी कहानी को भी पढ़े। 

हसन न्हाई  की चालबाजी

akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
हसन बादशाह का खानदानी न्हाई  था इसलिए बादशाह के परिवारजनों के केश कर्तन के काम वही करता था ऐसे ही एक दिन हसन बादशाह के  साले शेरखान की दाढ़ी बनाने के लिए गया बादशाह का वजीर यानी बीरबल  बीरबल के ऊपर जलने वाले सरदारों में से एक बादशाहो का साला शेरखान भी था वह हमेशा बीरबल को हराना चाहता था  

akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya

शेरखान की दाढ़ी बनाते बनाते  न्हाई  ने कहा हुजूर मैंने अपने जीवन में आपके जैसा राजनीतिक नहीं देखा है लेकिन बादशाह का साला होते हुए भी मुझे एक भी राजनीतिक पद नहीं मिला है    न्हाई  ने कहा आपको मिलेगा भी कैसे क्योंकि बादशाहो जी का चमचा बीरबल है और वह बीच-बीच में अपने नाक अड़ाता  है लेकिन मेरे हिसाब से आप को वजीर होना चाहिए था
शेरखान ने कहा  बात तो तुम ठीक कर रहे हो लेकिन यह कैसे मुमकिन हैहसन न्हाई  ने कहा आप सिर्फ हां कहिए मैं ऐसा खेल खेलूंगा कि बीरबल की बनेगी  कब्र और आपका होगा सिंहासन   शेरखान बहुत खुश हो गया और उसने कहा हसन अगर ऐसा हुआ तो मैं तुम्हारी जेब हीरे मोतियों से भर दूंगा उसने कहा अगर ऐसा हुआ तुम मुझे आप राजदरबार में जगह दीजिए  
शेरखान ने कहा बेशक ऐसा ही होगा तुम आज ही से काम पर लग जाओ शेरखान के आज्ञा लेकर हसन वहां से चला गया जैसे तय हुआ था हसन काम पर लगा वह अत्यंत चतुर और चालाक था  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
सप्ताह के दिन भाषण बादशाह की दाढ़ी बनाने राज दरबार चला गया और उसने कहा जहांपनाह आपकी सेवा करते हुए मुझे आपके पिताजी के बहुत याद रही है
बादशाह ने कहा हसन तुम तो हमारी खानदानी न्हाई  हो  जैसे हमारे पिताजी ने तुम्हें किसी भी बात की कमी महसूस नहीं होने दी वैसे ही हम तुम्हें किसी भी बात की कमी महसूस नहीं होने देंगे  
हसन न्हाई ने बहुत होशियारी से जवाब दिया हुजूर आपके राज्य में किसी को किस बात की क्या कमी होगीलेकिन आपके पिताजी की मुझे बहुत ही फिक्र हो रही है कल रात  वह मेरे सपने में आकर कहने लगे हसन मैं जन्नत में बहुत ही खुश हूं पर कुछ भी करके मेरा वक्त कट नहीं रहा है तुम मेरे बेटे से कहो मेरे मनोरंजन के लिए तुम किसी चतुर बुद्धिमान और हाजिर जवाबी इंसान को कम से कम 4 से 6 महीने के लिए जन्नत में भेज दो  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
बादशाह ने कहा आपका यह दर्द मुझसे देखा नहीं जाता मैं कल ही किसी भी  विदूषक को आपके पास भेज देता हूं
हसन ने कहा नहीं नहीं यह क्या कर रहे हो आप वह मूर्ख विदूषक किस काम का आपके पिताजी ने कहा है हाजिर जवाबी बुद्धिमान इंसान को ही भिजवा देना विदूषक तो मूर्ख बंदर की तरह होता है
बचाने बहुत सोच विचार करके कहा हसन फिर किसे भेजा जाए ? हसन ने कहा  हमारे संपूर्ण राज्य में बीरबल जैसा होशियार और हाजिर जवाब इंसान नहीं है इसलिए मेरी राय की क्यों ना हम बीरबल को ही भेज देबादशाह ने कहा तुम बिल्कुल ठीक कह रहे हो हम बीरबल को ही भेज देंगे
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
अगले दिन दरबार में बादशाह ने बीरबल से कहा बीरबल तुम मेरे सच्चे सेवक हो तुम मेरी ख्वाहिश पूरी करोगे ऐसा भरोसा है मुझे बीरबल ने कहा बादशाह सलामत मैं आपकी कोई भी इच्छा पूरी करूंगा ऐसा मैं आपको वचन देता हूं 
बादशाह ने कहा मुझे तुमसे यही उम्मीद थी   बादशाह ने कहा बीरबल हमारे शाही न्हाई  हसन की सपनों में हमारे पिताजी आए थे उन्होंने कहा है कि उनके मनोरंजन के लिए एक इंसान को भेजा  जाए हमारी ख्वाहिश है तुम वहां जाओ
हसन की चाल समझने के बावजूद बीरबल ने कहा खोज और आपके पिताजी तो पैगंबर वासी हुए हैं वह मैं कैसे जा सकता हूंवचन कहा यह भी सही है हमने तो इसके बारे में सोचा ही नहीं हसन ने कहा हजूरी है तो बहुत आसान है  बीरबल हिंदू है तो उन को जिंदा जला दिया जाए तो वह अपने आप ही जहांपना के पास चले जाएंगे। अकबर बादशाह की बीमारी | एक दांत का सपना
बादशाह ने कहा हसन यह बहुत कमाल की युक्ति है इसके बदले में तुम्हारे परिवार को 20 हजार स्वर्ण मुद्राएं दे दूंगा
खुद बुरी तरह फस गया है इस बात का जब बीरबल को अंदाजा हुआ तभी उसके दिमाग में एक युक्ति गई    बीरबल ने कहा हुजूर पंचांग अनुसार  चिता पर चढ़ने के लिए यह समय योग्य नहीं है इसलिए मैं चिता पर कल  चढूंगा लेकिन मेरे बाद मेरा काम कौन संभालेगाबीरबल का ऐसा बोलते ही  हसन न्हाई  ने कहा  हजूर आपके साले साहब शेरखान तब तक पद संभाल सकते हैं बचाने पूछा बीरबल तुम्हें क्या लगता है बीरबल ने कहा ठीक है जैसी आपकी मर्जी मैं कल की तैयारी करता हूं
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
दूसरे दिन जैसा तय किया हुआ था सारे दरबारी और बादशाह ने बीरबल को चिता पर बिठाकर चिता जला दी बीरबल की चिता के हवाले होते ही हसन और शेरखान खुश हो गए   
6 महीने बाद जब दरबार भरा हुआ था तो दाढ़ी मूछों वाला एक आदमी बता रहा था मैं बिरबल हूं  ऐसा कहते ही सारा दरबार चौक गया सारे दरबारी घबरा गए सब को देखते हुए बीरबल ने कहा बादशाह सलामत में बीरबल ही हूं  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
शेरखान ने कहा आप तो जन्नत चले गए थे लेकिन आप जिंदा कैसे हैंबीरबल ने कहा बुद्धि श्रेष्ठ शेरखान जी  मैं अपनी युक्ति के बल पर पृथ्वी पर वापस आया हूं लेकिन वह युक्ति में बताऊंगा नहीं
 हसन न्हाई ने कहा वह सब ठीक है लेकिन आपकी दाढ़ी इतनी बड़ी क्यों हैऔर इस तरह बादशाह के दरबार में आते वक्त आपको शर्म नहीं आई?
 बीरबल ने कहा क्षमा कीजिए बादशाह सलामत लेकिन मैं सीधा जन्नत से दरबार में आया हूं और वहां हसन जैसा न्हाई भी नहीं है जन्नत में मेरी बात छोड़िए  मेरी तो इतनी ही दाढ़ी बढ़ गई लेकिन आपके पिताजी दाढ़ी कमर तक झूलने लगी है अब बोलिए
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
बादशाह ने सोचा अब्बा हुजूर के से बुरे हालात? बीरबल ने कहा झूठ थोड़ी ही बोल रहा हूं  हसन न्हाई  की तरह। जहांपनाह  आपके पिताजी ने तो हाजिर जवाबी इंसान के साथ साथ हसन भाई को भी बुला लिया था और हसन आईने वह बात आपको बताई नहीं हजूर
बादशाहो गुस्सा करते हुए कहा हसन तुम नहीं हो पाता हमको पहले क्यों नहीं  बताइएआज इसी वक्त तुम्हें हमारे अब्बा हुजूर के पास जाना ही होगा  बीरबल तुम खुद इसका इंतजाम करो  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
बादशाह के हुकुम के मुताबिक हसन को कब्रिस्तान में ले जाकर हसन को एक खड्डे में डाला गया उसके बाद अकबर ने बीरबल से पूछाबीरबल हम तुम्हारी वफादारी पर बहुत खुश है पर एक बात बताओ तुम जन्नत से वापस आए कैसे?
 अकबर बादशाह के सवाल के जवाब में बीरबल  हंस दिया बीरबल अपने ही  युक्ति पर मन ही मन में बहुत खुश था  
akbar-birbal-hindi-kahaniya
akbar-birbal-hindi-kahaniya
उस दिन बीरबल ने सैनिकों से मिलकर चिता के नीचे जमीन के अंदर से एक मार्ग बना लिया था और जब चिता में आग लगाई गई तो उससे पहले ही बीरबल  भू मार्ग से बाहर निकल गया था इस तरह हो हसन के कार्य स्थान को बीरबल ने प्रस्थान दिखा दिया

हिंदी कहानिया पढनेकेलिए यहाँ Click करे 


अकबर बीरबल हिंदी कहानिया- akbar birbal story in hindi

  1. ५ बेहतरीन अकबर बीरबल हिंदी कहानिया। - akbar birbal story in hindi
  2. पति को सबक | तानसेन की शर्त - akbar birbal story in hindi
  3.  अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | बीरबल को दंड | नन्हा साक्षीदार akbar birbal story in hindi
  4. अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | अकबर बादशाह की बीमारी | एक दांत का सपना akbar birbal story in hindi
  5. अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | छड़ी लगे छम छम | काझी की हुई फजीती akbar birbal story in hindi

तेनाली रमन की चतुराई 



No comments:

Powered by Blogger.