इरफान खान जीवनी | Irrfan Khan Biography Hindi | Irrfan Khan Movies


Irrfan-khan-biography-hindi
Irrfan-khan-biography-hindi


आज के इस ब्लॉग में हम बात करेंगे एक ऐसे शख्स के बारे में जिनका फिल्मी दुनिया से कोई रिश्ता नहीं था। लेकिन आज के टाइम में यह शख्स देश से लेकर विदेश तक की फिल्मों में काम कर चुके हैं। इरफान खान जीवनी,Irrfan Khan Biography Hindi, Irrfan Khan Movies  इरफान खान के बारे में कहानी शुरू होती है। राजस्थान से इरफान का जन्म 7 जनवरी 1967 को राजस्थान के जयपुर में एक साधारण परिवार में हुआ था। इरफान खान जीवनी। 


इरफान खान से जुड़ी जानकारी (Irrfan Khan personal details)



पूरा नाम
शाहबजादे इरफान अली खान
उप नाम
इरफान
जन्म स्थान
जयपुर, राजस्थान, भारत
जन्म तारीख
7 जनवरी, 1967
पिता का नाम
यासीन अली खान
माता का नाम
सईदा बेगम
कुल भाई-बहन
तीन
पत्नी का नाम
सुतापा सिकदर
कुल बच्चे
दो लड़के
पेशा
अभिनेता और प्रोड्यूसर
पहली हिंदी फिल्म
सलाम बॉम्बे
लंबाई (Height)
6’0
वजन (Weight)
75 किलो
आंखों का रंग (Eye colour)
काला रंग
बालों का रंग (Hair colour)
काला रंग
कुल संपत्ति (Net worth)
80 करोड़ के करीब
इंस्टाग्राम
फेसबुक
ट्विटर



इरफान का असली नाम साहबजादे इरफान अली खान है। इरफान की पिता की 1 टायर की शॉप थी। और इनकी माता घर का काम किया करती थी। पढ़ाई में थोड़ा कमजोर होने के कारण इरफान का मन पढ़ाई में नहीं लगता था।  इरफान एक क्रिकेटर बनना चाहते थे।  क्योंकि बचपन में इरफान क्रिकेट काफी अच्छा खेला करते थे।  लेकिन परिवार के लोग चाहते थे कि इरफान पढ़ लिखकर डॉक्टर या वकील बने। 

 इरफान बचपन में जब फिल्में देखा करते तो सोचते कि काश वह भी एक्टर बन पाते। इरफान ने एक्टर बनने के सपने देखना स्टार्ट ही किया था कि उनके पिता की मृत्यु हो गई। जब इरफान मात्र 19 साल के थे घर में बड़े होने के कारण घर की सारी जिम्मेदारियां इरफान पर गई। 
 इरफान घर चलाने के लिए अपने पिता की शॉप पर काम करते और बच्चों को ट्यूशन भी दिया करते थे।  

लेकिन इन सभी कामों के बीच इरफान के एक्टर बनने का सपना काफी पीछे छूटता जा रहा था। इस मुश्किल टाइम में इरफान का साथ दिया उनके छोटे भाई हैं और घर की सारी जिम्मेदारियां उठाने लगे। 


इरफान खान की पहली फिल्म - Irrfan khan first movie 


Irrfan Khan Movies अपने सपनों को सच करने के लिए फिर इरफान दिल्ली पहुंचे ।  इरफान ने कुछ दिन थेटर करने के बाद दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में एडमिशन ले लिया।  यहां पर उनकी मुलाकात हुई सुतापा  से हुई जो उनकी बहुत अच्छी फ्रेंड बन गई। और 23 जनवरी 1995 को इरफान ने सुतापा से शादी कर ली। 

नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में इरफान बहुत अच्छी से एक्टिंग सीखते और फालतू के कामों में अपना टाइम बिल्कुल भी बर्बाद नहीं किया करते थे। कोर्स खत्म होने के ठीक थोड़ा पहले इरफान को मीरा नायर ने अपनी फिल्म सलाम बॉम्बे के लिए कास्ट कर लिया क्योंकि इरफान अब एक्टिंग को समझ चुके थे। लेकिन जब फिल्म रिलीज हुई तो इरफान का सीन एडिटिंग के टाइम पर कट चुका था।  इस कारण इरफान काफी परेशान हुए। 



इरफान खान ने सेरिअल्स में भी किया है काम - Irrfan Khan Serials 

दिल्ली में इरफान को छोटे-छोटे रोल मिलते जिन्हें इरफान काफी अच्छे से किया करते थे। लेकिन एक दिन उन्हें एक डायरेक्टर ने टेलीफिल्म्स के लिए मुंबई बुला लिया। मुंबई में इरफान ने कुछ सीरियल्स में काम किया जैसे कि चंद्रकांता भारत एक खोज और चाणक्य सीरियल्स में काम करते टाइम बहुत बार इरफान को डांट सुनने को भी मिलती।  और एक बार तो यहां तक कि इरफान की आधी फीस भी काट ली गई। इरफान कई हिंदी धारावाहिकों का हिस्सा रह चुके हैं और इनके द्वारा किए गए कुछ धारावाहिकों के नाम इस प्रकार हैं। 

संख्या
धारावाहिकों के नाम
1
चाणक्य
2
भरत एक खोज
3
साराजहां हमारा
4
बनेगी अपनी बात
5
चंद्रकांत
6
श्रीकांत
7
स्टार बेस्टसेलर्स
8
मानो या ना मानो 


लेकिन इरफान इन चुनौतियों के कारण ही आज अपने आपको इतने बड़े प्लेटफार्म तक लाए हैं। इरफान ने बचपन से ही बड़े पर्दे के सपने देखे थे और इसके बाद इरफान ने बहुत सी फिल्मों में छोटे-छोटे रोल किए। ठीक ठाक रही इस फिल्म के कारण इरफान को बॉलीवुड में लोग जानने लगे थे। और फिर डायरेक्टर तिगमांशु धुलिया ने इरफान को अपनी फिल्म हासिल में कास्ट किया।और इस फिल्म में अच्छी एक्टिंग के लिए इरफान को फिल्म फेयर अवार्ड फॉर बेस्ट विलन का अवार्ड भी दिया गया। 

इनके अलावा इरफान ने और भी बहुत सी अच्छी फिल्म्स की लेकिन 2012 में इरफान ने फिल्म पान सिंह तोमर की और यह फिल्म उनके करियर की हिट रही इस फिल्म को लोगों ने खूब पसंद किया। और इस फिल्म के लिए इरफान को नेशनल फिल्म अवॉर्ड फॉर बेस्ट एक्टर का अवार्ड भी दिया गया। 

इरफान खान ने हॉलीवुड में भी किया है काम (Irrfan Khan Hollywood Movies)

इनके अलावा इरफान ने अमेजिंग स्पाइडर मैन लाइफ ऑफ पाई स्लमडॉग मिलेनियर जुरासिक वर्ल्ड जैसी बड़ी-बड़ी हॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया है। और यह सभी फिल्में बहुत बड़ी सुपरहिट रही इरफान खान ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि एक टाइम ऐसा भी था जब मेरे पास जुरासिक वर्ल्ड मूवी देखने के लिए रुपए नहीं थे लेकिन आज के टाइम में मैंने इस फिल्म में रोल प्ले किया है। 

           
संख्या
फिल्मों के नाम
1
सच लॉन्ग जर्नी(1988)
2
नेमसेक (2006)
3
माइटी हार्ट (2007)
4
दार्जीलिंग लिमिटेड (2007)
5
स्लमडॉग मिलियनेयर (2008)
6
लाइफ ऑफ पाई (2012)
7
अमेजिंग स्पाइडर मैन (2012)
8
जुरासिक वर्ल्ड (2015)
9
इन्फर्नो (2016)



इरफान खान की संपत्ति की जानकारी (irrfan khan net worth detail)

इरफान खान एक फिल्म में काम करने के लिए 12 से 14 करोड़ रुपये तक लेते थे। इरफान का मुंबई में अपना फ्लैट है जिसमें वह अपने परिवार के साथ रहते थे। इस फ्लैट की कीमत ढाई करोड़ रुपए है। इरफान के पास कुल चार वाहन भी हैं। इरफान किसी भी ब्रांड का हिस्सा बनने के लिए न्यूनतम 3 करोड़ रुपये लेते हैं। वर्तमान में, उनके पास लगभग 80 करोड़ रुपये की संपत्ति है।

10 Unknown Facts about Irrfan khan इरफान खान से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण बातें 

 इरफान खान एक बहुत ही टैलेंटेड एक्टर थे जिनकी परफॉर्मेंसेस को वर्ल्ड लेवल पर एप्लीकेशन मिला है। इरफान के 30 साल लंबे करियर में उन्होंने कई अलग तरह के कैरेक्टर्स प्ले किए हैं।जिन्हें फ्यूचर में भी आज इंस्पिरेशन देखा जाएगा इस ब्लॉग में हम आपको इरफान खान की लाइफ और करियर से जुड़े १ 0  फैक्ट्स बताएंगे जो शायद आप नहीं जानते हो। 

नंबर १ :

इरफान खान को जो लंच बॉक्स ऑफर की गई यो उन्हें फिल्म की स्टोरी बहुत पसंद आई पर लाइफ ऑफ पाई और नेमसेक में वह अपने से बहुत बड़े कैरेक्टर प्ले कर चुके थे। और दोबारा वह कोई बड़ी ऐज वाला कैरेक्टर प्ले नहीं करना चाहते थे। 
 उनके डायरेक्टर रितेश बत्रा को इरफान ने सजेस्ट किया कि वह लंच बॉक्स में नसीरुद्दीन शाह को कास्ट करने पर रितेश इरफान को ही  फिल्म में कास्ट करना चाहते थे। कुछ महीने तक सोचने के बाद मैंने लंच बॉक्स को  इरफान खान  ने साइन किया और क्रिटिक्स ओं योर ऑडियंस को हर जगह से  एप्रिसिएशन  मिला।  लंच बॉक्स उनकी वन ऑफ बेस्ट  फिल्म में से एक है जो ऑडियंस में आज की पॉपुलर है।  

नंबर २ :  

इरफान एक सीरियल जय हनुमान में भी काम किया था। और सेट पर पहुंचते ही उन्हें पता चल गया था कि रोल उनके टाइप का बिल्कुल नहीं है। इरफान ने सीरियल को सिर्फ एक ही दिन शूट किया और इसके बाद वह सेट पर वापस ही नहीं गए। इरफान उसको अपने करियर का सबसे रिग्रेटफुल रोल मानते हैं जिसकी डबिंग करने के लिए फिर सामने मना कर दिया था

 नंबर ३:  

इरफान को कैंसर के बारे में पता चला तो उनकी विश थी कि वह अपनी वाइफ के लिए ठीक होना चाहते थे। इरफान एक लेटर में लिखा कि सूतापा पूरी लाइफ उन पर कभी भी  गिव अप नहीं किया। और आज भी रिकवरी के लिए पूरे एफ्फोर्ट्स (Efforts) लगा रही थी। दोनों एक साथ काफी सोरटेड नज़र आते थे और सूतापा इरफान की फिल्म सिलेक्शन में भी मदद किया करती थी। 

 नंबर 4:

काफी लोगों को लगता है कि इरफान गरीब फैमिली से आते हैं। पर यदि यह थी कि उनके फादर जमींदार फैमिली से बिलॉन्ग करते थे। हालांकि इरफान एक इंटरव्यू में बताया कि उनकी फादर एक बहुत टैलेंटेड इंसान थे। जिन्होंने अपनी इंसेस्ट्रूअल प्रॉपर्टी में कोई हिस्सा नहीं लिया और अपने खुद के बनाए घर में ही रहा करते थे। इरफान के फादर का टायर बनाने का बिजनेस था।  

नंबर 5:

इरफान खान रियल नेम साहिबज़ादे इरफान अली खान है। और उन्हें लगा कि इस नाम से उन्हें सुनने तो क्या बल्कि ऑफिस में भी कोई नौकरी नहीं मिलने वाली थी। इसलिए उन्होंने अपने नाम का शार्टफॉर्म इरफान खान ही यूज किया।  

नंबर 6:

इरफान बचपन में अपने पतले होने की वजह से काफी अनकॉन्फिडेंट रहते थे। स्कूल में उनके  वजन के लिए उन्हें भूली भी किया जाता था। जिसकी वजह से वह ज्यादा लोगों के सामने ढंग से बात भी नहीं कर पाते थे।  

नंबर 7:

1988 में  इरफान खान ने सलाम बॉम्बे फिल्म अपना डेब्यू किया। फिल्म का कैरेक्टर चिट्ठी लिखने का काम करता है। और आप देख सकते हैं कि पहली सुनते ही उनका एक्टिंग स्टाइल बहुत रियल था। लेकिन एडिटिंग के वक्त इरफान का रोल काट दिया गया। और भी कई सीन से पर उनका रोल काट दिया गया। इरफान को जब यह बात पता चली तो उस वक्त उन्हें रोना ही गया।उनकी पहली फिल्म थी तो उन्हें बहुत दुख हुआ जब उनका रोल काट दिया गया था

 नंबर 8:

इरफान से जब पूछा गया कि उनके करियर का सबसे ज्यादा चैलेंजिंग रोल कौन सा था? तो उन्होंने लाइफ ऑफ पाई और इन ट्रीटमेंट नाम की सीरीज का मेंशन किया। लाइफ ऑफ पाई तो आप सबने देखी ही होगी पर इन ट्रीटमेंट में  डिप्रेस्ड आदमी का कैरेक्टर प्ले करते हैं जिसको करने के लिए  इरफान खान को कई महीनों तक रिसर्च की थी। और उनके लिए यह कैरेक्टर मेंटली भी बहुत चैलेंजिंग था। 

 नंबर 9:

फिल्म पान सिंह तोमर के लिए  इरफान खान को बेस्ट एक्टर की कैटेगरी में नेशनल अवार्ड जीता। और उसी साल से उनके लिए उन्हें फिल्म फेयर अवार्ड भी दिया गया। 2019 में उन्हें दोबारा हिंदी मीडियम के लिए बेस्ट एक्टर का फिल्मफेयर अवार्ड दिया गया। 


नंबर 10:

मकबूल में इरफान ने अपनी करियर की वन आफ थे बेस्ट परफॉर्मेंस दी है। पर हैरानी की बात यह है कि  उस साल उनको एक भी अवार्ड के लिए नॉमिनेट नहीं किया गया। 




फ्रेंड्स इन सभी कामयाबी के लिए इरफान ने लाइफ में बहुत स्ट्रगल किया है। इरफान बताते हैं कि शुरू में काम ना मिलने के कारण इरफान वापस अपने घर जयपुर आना चाहते थे लेकिन उनके फ्रेंड ने उनको रोक लिया। और आज के टाइम में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो इंसान को ना जानता हो इरफान खान अपनी लगन और मेहनत के कारण ही आज इस मुकाम पर थे कि लोग उनसे मिलने को तरसते  थे।

२०२० में आई बहेतरीन फिल्म अंग्रेजी मेडियम उनकी जीवन की आखरी फिल्म थी। और फिर इरफान को 2018 में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हुआ था जिसके कारन वह लंबे समय से एक दुलर्भ किस्म के कैंसर से जंग लड़ रहे थे। और बुधवार २९ अप्रैल २०२० को अभिनेता इरफान खान का मुंबई के एक अस्पाताल में निधन हो गया। तब उनकी उम्र  54 साल के थे। 

1 comment:

Powered by Blogger.