akbar birbal story in hindi | akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां | पति को सबक | तानसेन की शर्त



akbar birbal story in hindi or akbar birbal hindi story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां हम सब बचपन से सुनते आ रहे है। akbar birbal story - अकबर बीरबल की हिंदी कहानियां बहोत मशहूर है।  बीरबल अपने चतुर बुद्धि के कारन प्रसित्द्ध थे। बीरबल हर काम को बड़ी चतुराई के साथ पूरा करते थे।  दोस्तों हिंदी Story Line आपके लिए लेकर आये है ऐसे ही मजेदार अकबर बीरबल की हिंदी कहानिया akbar birbal story in hindi। यह कहानी को भी पढ़े 

 १. पति को सबक 

akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

दिल्ली शहर में  बड़ामल का नाम का एक बहुत गुस्से वाला आदमी रहता  था वह बहुत गुस्से वाला था गुस्सा आने पर वह क्या करेगा यह कोई नहीं कह सकता था  
ऐसे ही एक दिन बड़ामल को अपनी पत्नी पर गुस्सा आया एक बार सब्जी में कम नमक होने के कारण उसने अपनी पत्नी को बहुत पीटा दूसरे दिन खाना खाते समय चावल में बाल मिलने के कारण वह बहुत गुस्सा हो गया ।उसकी पत्नी बहुत  घबराई और बोली दोबारा ऐसी गलती नहीं होगी बड़ामल अपनी पत्नी से बोला अगर इसके बाद मुझे खाने में बाल दिखे तो मैं  तुम्हारे सारे बाल काट कर गंजा बना दूंगा  
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

  पत्नी को इतना समजने के बाद भी 1 दिन जो होना था वही हुआ । बड़ामल  के भोजन में फिर से बाल आया वह बहुत गुस्सा हो गया। उसने अपनी पत्नी से  कहा अभी उठ और  जा नाई को बुला कर लेकर पत्नी बहुत घबराई रोने  लगी उसके सामने गिड़गिड़ा ने लगी और कहने लगी आगे से ऐसा नहीं होगा कृपा करके मेरे बाल मत काटे
पति ने कहा पिछली बार भी तुमने ही कहा था लेकिन फिर भी खाने में तुम्हारे बाल मिलते हैं जब तक तुम्हें सजा नहीं मिलेगी तब तक तुम नहीं  सुधरोगे पति के सामने अपने एक भी चलने वाली नहीं यह समझते  ही पत्नी ने नाई के घर का रास्ता लिया
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi
नाई को सारी बातें बता दी और नाई यह सुनकर नहीं बोलादीदी आपके पति के सामने मेरा बस चलना मुश्किल है हमें काम करते हैं हम बीरबल के पास जाते है और देखते ही कोई इलाज मिलता है क्या फिर मोगरा और नाई बीरबल के पास चले गए बीरबल को सारी बातें बताने पर बीरबल ने कहा अब जैसा मेंकहता हु वैसा ही करना
 नाई अपना सारा सामान लेकर बड़ामल  के घर चला गया    घर के बाहर वह जोर जोर से चिल्लाने लगा बड़ामलजी  बड़ामलजी  जल्दी बाहर आए । बड़ामल ने पूछा मेरी पत्नी मोगरा कहा है?  नाई  बोला दीदी को स्नान करने भेजा है क्योंकि उसके बगैर ठीक से बाल काट नहीं सकते और बोल पड़ा तो आप भी एक काम कीजिए यह विष लीजिए और फटाक से पी जाइए ऐसा कहते ही  बड़ामल  घबरा गया   और पूछने लगा यह विष मुझे क्यों पीना पड़ेगाउस पर नाई बोला अगर आपके पत्नी के बाल काटने हैं तो आपको  यह विश पीना ही पड़ेगा   
आप  मरे बिना में ऐसा कैसे कर सकता हूंहमारे धर्म में ही वैसा कहा गया है चले जल्दी जल्दी से विष पी लीजिए  और फटाफट  निपट लीजिए मैंने तो चार कंधे वाले को और एक मटका पकड़ने  वाले को भी बुला लिया है
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi
शमशान  में चिता भी तैयार होगी और गांव के सारे लोग  भी वहां  जमा होने वाले है बीरबल जी ने यह  विष खास करके आपके लिए भिजवाया है अब तो आपके अंतिम यात्रा भी बड़े ठाठ से निकलेगी आप अपने धर्म का इतना पालन करते हैं इसलिए बादशाह  भी आप के अंतिम यात्रा में शामिल  होंगे ।आप तो बहुत ही नसीब वाले हो
 नाई के कहने पर ही  बड़ामल  थरथराट से कांपने लगा और  नाई से बोला इतनी बड़ी सजा मत दो मुझे
 नाई बोला  अब आपको सारी बात समझ में गई आप भी तो अपनी पत्नी को इतनी  बड़ी सजा देने वाले थे बड़ामल  बोला मुझसे बहुत बड़ी भूल हो गई आगे से मैं ऐसा नहीं करूंगा अच्छा हुआ आपने मेरी आंखें खोल दी   नाई बोला  मैं कौन होता हूं आपकी आंखे खोलने वाला एक काम तो है चतुर बीरबल जी का

२. तानसेन की शर्त

akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi
 एक बार  शेरखान बीरबल के पुतले के सामने तलवारबाजी कर रहा था उसके साथी ने पूछा कि यह तुम क्या कर रहे हो? उस पर वह बोल पड़ा मूर्ख दिखता नहीं मैं बीरबल  को मार रहा हूं और देखो यहां बीरबल तो चुपचाप मार खा रहा है  
उसके साथी ने कहा आपकी बात तो सही है लेकिन इस पुतले को मार कर  आप थोड़े ही वजीर बन सकते हो? और जोर जोर से हंसने लगे उस पर  वह सिपाही बोला बेवजह हंसने के पहले यह सोचो कि बीरबल को कैसे हटाया जा सकता है? उस पर एक सिपाही ने कहा अपने शहर में सबसे होशियार व्यक्ति कौन है? उस पर दूसरे सिपाही बोल पड़ा सबसे ख्यातनाम अपने शेरखान तो  पहला  सिपाही  बोल पड़ा  नहीं  शेरखान से  ख्यातनाम और होशियार  कोई है तो वह है बीरबल 
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

और बीरबल से  ख्यातनाम जिसे सब लोग पहचानते हैं तो वह दूसरा  सिपाही बोल पड़ा  अपने अकबर बादशाह   पहला सिपाही बोला कोई इसका मुंह बंद करो और बहुत सोचने पर बाकियों ने जवाब दिया वह है तानसेन   पहला सिपाही  ने शेरखान से  कहा शेरखान जी तानसेन ही आपकी मदद कर सकते हैं
 शेरखान  ने पूछा है भाईतो वह सिपाही बोल पड़ा आप हर बार बादशाह के सामने वजीर बनने की जिद करते हैं और हर बार बीरबल की जीत होती है और आपकी हार  होती है लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा क्योंकि इस बार आप वजीर बनने के लिए तानसेन जी को आगे करें क्योंकि तानसेन जी की विद्वत्ता बुद्धिमत्ता बीरबल से भी श्रेष्ठ है और वह विख्यात भी है  और अगर आप उन्हें वजीर बनाने के लिए कहेंगे तो बादशाहइनकार नहीं कर सकते और बीरबल आराम से बाजू हो  जाएंगे बाकी सिपाहियों ने कहा लाठी भी टूटेगी और  सांप भी नहीं मरेगा
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi
 शेरखान तानसेन के घर चला गया तब तानसेन अपने गाने का रियाज कर रहे थे  तानसेन जी ने शेर खान का स्वागत किया तानसेन जी ने अपने आने का कारण पूछा तो शेरखान  बोले क्यों ना आप जैसे महान गायक से कला के थोड़ी उपासना की  जाए    
तानसेन जी ने कहा मैं कोई महान नहीं हूं प्रभु ने कलादि है मैं तो उनका पुजारी हूं शेरखान टेंशन की बहुत तारीफ करने लगे और तारीफ करते हुए बोले आप जैसे महान व्यक्ति अपने राज्य में होते हुए भी वह बीरबल वजीर बना बैठा है   तानसेन बोले बीरबल तो बहुत चतुर और बुद्धिमान है लेकिन शेरखान ने  तानसेन को बीच में ही रोकते हुए कहा  बीरबल कोई बुद्धिमान नहीं है हमारी इच्छा है की  इस राज्य के वजीर आप ही बने  
तानसेन जी ने कहा मेरी दुनिया तो संगीत की है वह काम मुझे नहीं जमेगा और मेरा वजीर बनाना बादशाह को भी पसंद आएगा। शेरखान ने कहा आप बहुत महान है गुणवान है अगर आप वजीर बने तो आप की कला को अवसर मिलेगा  यह मेरी नहीं बल्कि सारे राज्य की यही  सोच है। शेरखान के बहुत कहने पर तानसेन जी राजी हुए और उन्होंने कहा अब आप कह रहे हैं तो मैं बादशाह से एक बार पूछ लेता हूं  
दूसरे दिन तानसेन ने दरबार में अकबर से कहा बादशाह सलामत, मैं आपको प्रणाम करता हूं   जहांपना आप तो जानते हैं में एक महान गायक तो हो ही और लोग मेरी कला के दीवाने हैं और इस दरबार में विद्वत्ता के हिसाब से मैं सबसे महान और विद्वान हूं तो इस राज्य का वजीर मुझे होना चाहिए ऐसी कई देश के लोगों की इच्छा है और तानसेन जी ने शेरखान जी से पूछा शेरखान का नाम आते ही  अकबर बादशाह समझ गए की बीरबल को वजीर की गद्दी से दूर करने के लिए  शेरखान कि यह नई चाल है
उन्होंने तुरंत एक सेवक को बुलाकर उसके कानों में कुछ कहा और बादशाह अकबर  ने कहा तानसेन की विद्वत्ता बीरबल से अधिक है और  तानसेन  इस राज्य के वजीर बने तो वह  हमारे लिए सन्मान की बात होगी इस पर शेरखान को बड़ी खुशी हुई बादशाह अकबर ने कहा बीरबल अभी के वजीर है तो इतनी आसानी से उनको हटाया नहीं जा सकता  जब भी राज्यसभा में बीरबल  गए

akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

बीरबल ने उन दोनों से कहा तानसेन और बीरबल आप यह खत  लेकर  ईरान के  बादशाह के पास चले जाइए आप दोनों में से जो भी इस खत का जवाब लाएगा वह किस राज्य का वजीर बनेगा
 बादशाह है कि आज्ञा लेकर तानसेन और बीरबल हिरण के बादशाह के पास चले गए बीरबल और तानसेन बादशाह के समक्ष हाजिर हो गए तानसेन जी ने कहा हमें दिल्ली के अकबर बादशाह ने भेजा है और इस खत का जवाब मांगा है  
बादशाह खत पढ़कर बहुत गुस्सा हो गए और उन्होंने कहा इस खत में तो जो खत लेकर आए  उसका  सिरछेद  करने के लिए कहा है यह सुनते ही तानसेन हक्का-बक्का रह गया पसीने से पूरा भीग गया बीरबल भी दंग रह गया हिरण के बादशाह ने  कहा हकीकत में तुमने क्या किया है यह तो मुझे मालूम नहीं पर राजधर्म का हुक्म समझकर मुझे तुम्हारे सर कटवाने ही होगे    
इसके बाद  ईरान के बादशाह ने अपने सेवक को आज्ञा दी और तानसेन और बीरबल को कोठरी में बंद करने का आदेश दे दिया  
दूसरे ही दिन उनका सिर धड़ से अलग होने वाला था तानसेन जी  की घबराकर बुरी हालत थी   उन्होंने बीरबल से कहा आप तो इतने होशियार हो आप कुछ करते क्यों नहीं मुझे  वजीर नहीं बनना बीरबल जी बोले जैसा मैं कहता हूं कल वैसा ही करना। 
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

जैसे ही अगली सुबह उन दोनों का सिर छेद होने वाला था तभी बीरबल जोर से चिल्लाने लगा रुके रुके जल्लाद ने पूछा क्या हुआ? उस पर बीरबल ने कहा कुछ नहीं कुछ नहीं तो उस पर  तानसेन ने कहा पहले मेरा सिरछेद कीजिए बीरबल ने कहा नहीं नहीं पहले मेरा कीजिए उस पर तानसेन और बीरबल आपस में झगड़ने लगे पहले मेरा पहला मेरा
उसके बाद उन दोनों को पाछा के सामने हाजिर कर दिया   ईरान के बादशाह ने पूछा  यह सब क्या चल रहा है? उस पर बीरबल ने कहा आपने तो हमारी आखरी ख्वाहिश नहीं पूछी बादशाह ने कहा  आपके आखिरी ख्वाहिश क्या है? तानसेन ने कहा इससे पहले मेरा सिरछेद  किया जाए और उसने बीरबल से कहा तुम्हारी क्या ख्वाहिश है? बीरबल ने कहा तानसेन से पहले मेरा सिरछेद किया जाए   बादशाह ने पूछा तुम दोनों अपना सिर कटवाने के लिए इतने उतावले क्यों होदोनों ने कहा यह तो हम नहीं बता सकते   
बादशाह ने कहा पहले वजह बताओ उसके बिना मैं किसी का भी सिर नहीं काटने का आदेश दूंगा बीरबल ने बादशाह से कहा बादशाहो सलामत हम दोनों निर्दोष है लेकिन हम दोनों का सिर छेद हो यह हमारी  बादशाह की ख्वाहिश है हुजूर हमारे जहांपना आपका राज्य जीतना चाहते हैं इसे एक बड़े ज्योतिषी ने उनसे कहा है कि अगर आपने किसी 2 निर्दोष लोगों की हत्या की तो आसानी से इस राज्य को जीत  पाएंगे
akbar birbal story in hindi
akbar birbal story in hindi

बादशाह ने उन दोनों को  छोड़ने का आदेश दे दिया और कहा जाकर बता दो अपने  बादशाहो को मुझे से यह राज जितना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है
  बीरबल और तानसेन अकबर बादशाह के दरबार में गए तानसेन ने बादशाह से कहा इस राज्य का वजीर बीरबल कोई होना चाहिए मैं इसके लायक नहीं हूं और ईरान में घड़ी सारी हकीकत उन्होंने राज दरबार में बता दी

people also search for akbar birbal story in hindi or akbar birbal hindi story मुझे आशा है की आपको यह हिंदी कहानी पसंद आयी होंगी अकबर बीरबल की  हिंदी कहानिया पढनेके लिए हमारे साथ जुड़े रहिये।  





हिंदी कहानिया पढनेकेलिए यहाँ Click करे 

तेनाली रमन की चतुराई 




No comments:

Powered by Blogger.